Akhil bhartiya shwetambar mahatma jain mahasabha sansthan..!!

Helpline - 9414167650

Feedback

Our blogs

  • See our blogs!

आम महात्मा - अधिवेशन रिपोर्ट 16-17 Jun 2018


2018-06-19
Super User
0
चारभुजा (राजसमंद) सम्मेलन -2018 की रिपोर्ट
# दि. 16 जून दिन  में 3.30 बजे प्रथम सत्र की लगभग 40-50 लोगो के साथ शुरुआत
# स्वागत, माल्यापर्ण के पश्चात सर्वप्रथम अध्यक्ष जी का भाषण
# गत सम्मेलन में बर्खास्त कर पुनः नियुक्त किये गए महामंत्री जी ने वर्षभर की गतिविधियो का ब्यौरा पढ़ा, जिसमे कार्यकारिणी की किसी भी मीटिंग के मिनिट्स का उल्लेख नही था
# अध्यक्ष जी ने 18 जोन बनाये , उसमे से केवल 4-5 जोन के प्रति निधि उपस्थित थे
#उदयपुर व राजसमंद जोन के प्रतिनिधियो ने अपने यहा हुए कार्यक्रमो का पूरा विवरण दिया, बाकी जोन के प्रतिनिधियो ने कार्य करने का आश्वासन दिया
# बड़ीसादड़ी से पधारे पूर्व कोषाध्यक्ष ने सम्मेलन का स्थान परिवर्तन हेतु सुजाव दिया और साथ ही कहा कि अगर सावलिया करते है तो व्यवस्था जी जिम्मेदारी उठाने को तैयार है, इस पर किसी प्रकार की कोई प्रतिक्रिया अध्यक्ष द्वारा नही दी गई
# सर्वश्रेष्ठ कार्य करने के लिए उदयपुर जोन को सम्मानित किया
# कोषाध्यक्ष को समाज का पैसा बचाने के लिए अध्यक्ष जी व महामंत्री ने उनका सम्मान किया
#अल्पसंख्यक आयोग के राजसमंद से पधारे एक अधिकारी ने सरकार द्वारा अल्पसंख्यको को दी जाने वाली सुविधाओं की बहुमूल्य जानकारी प्रदान की
# राष्ट्रीय अध्यक्ष जी की तारीफों के साथ प्रथम सत्र की समाप्ति हुई
# दूसरे सत्र को निमंत्रण पत्र में ' सामाजिक गतिविधियो पर विश्लेषण एव चर्चा ' लिखा , परन्तु उसे 'भक्ति संध्या ' में बदल दिया,
इसका विरोध होने पर अध्यक्ष जी ने बड़ी चतुराई से विरोध को शांत कर भक्ति सन्ध्या कराई
# इस सत्र में उदयपुर के प्रतिनिधि ने प्रस्ताव दिया कि यदि अगला सम्मेलन उदयपुर में होता है तो व्यवस्था की जिम्मेदारी  उदयपुर युवा उठाने को तैयार है। इस कुछ असमंजस की स्तिथि उत्पन्न हुई, जिसे उसी समय स्पष्ट कर दिया कि केवल व्यवस्था की बात कर रहे है, इस पर अध्यक्ष जी ने कहा कि हमारी कार्यकारिणी के साथ मीटिंग कर आपको सूचना दे देंगे
# अध्यक्ष जी ने अपनी गायन व नृत्य की प्रतिभा का प्रदर्शन कर वाह वाही लूटी, और इस सत्र का समापन हुआ
# 17 जून प्रातः योग कराया जिसमे ... लोगो ने योग किया
# रात को स्थिति स्पष्ठ होने के बावजूद भी लोगो मे यह भ्रम फैलाया गया कि अगला सम्मेलन उदयपुर वाले कर रहे है, इस पर उदयपुर से आये सभी युवाओ ने अध्यक्ष को अलग बुलाकर पुनः स्तिथि स्पष्ट की कि हम व्यवस्था की बात कर रहे है ना कि सम्पूर्ण आयोजन की, परन्तु अध्यक्ष जी अपनी भाषा शैली से ऐसा माहौल बनाया सभी को खामोश कर दिया, इस एक असत्य की वजह से उदयपुर के युवाओं में मतभेद उत्पन्न हो गया
# प्रतिभा एव तपस्वी  सम्मान किया गया
# आगामी सम्मेलन के लाभार्थियों की घोषणा की गई
# सभी का धन्यवाद कर सम्मेलन के समापन की घोषणा की गई
 
Aam Mahatma